होम  /  हमारे बारे में  /  टीम से मिलें

हमारी दास्ताँ 

राजनीति के लिए युवाओं को विकसित करने वाली एक संस्था स्थापित करने का विचार पहली बार 2013 में हमारे सामने आया। वर्षों से, विकास के क्षेत्र में हमारी यात्रा के दौरान, हमने सीखा कि लोगों को व्यक्तिगत परिवर्तन के मार्ग पर लाना मुमकिन है। तब हमने खुद से पूछा, कि क्यों न राजनीति और लोकतंत्र के लिए ऐसा किया जाए? 2018 में, हमने इंडियन स्कूल ऑफ डेमोक्रेसी की नींव इस उम्मीद में रखी कि यह अंततः एक ऐसी संस्था बन जाएगी जो सिद्धांतवादी नेताओं का निर्माण करेगी। इंडियन स्कूल ऑफ डेमोक्रेसी के लोग विविध राजनीतिक और सामाजिक पृष्ठभूमि से आते हैं, लेकिन हम एक ही तरह के अटूट सिद्धांतों, नज़रियों और मूल्यों में विश्वास रखते हैं जो सर्वोदय के केंद्र में हैं। हम राष्ट्र-निर्माण को लेकर उत्साहित है और भारत और इसके लोगों के लिए बेहिचक समर्पित हैं।

इंटर्नशिप के लिए आवेदन 2 मई, 2021 तक खुले हैं

isd-thegoodpolitician.png
isd-stroke-peach-02.png
isd-stroke-peach-01.png

टीम से मिलें

prakhar.png

सह-संस्थापक

प्रखर भारतीय

एक इंजीनियर और टीच फॉर इंडिया 2011 के फेलो रह चुके प्रखर, जमीनी नेतृत्व के लक्ष्य पर काम करती संस्था, यूथ अलायंस (YA) के संस्थापक हैं। पिछले सात वर्षों में, प्रखर ने YA को आकार दिया और युवाओं के लिए ग्रामीण भारत में मंथन-यात्राओं की शुरुआत की। कई सामाजिक उद्यमियों के मार्गदर्शक प्रखर, कट-कथा और शिक्षार्थ के बोर्ड-मेम्बर के रुप में भी अपनी सेवा देते हैं।

2018 में, प्रखर लोक प्रशासन में मास्टर्स करने के लिए कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क चले गए थे जहाँ उन्होंने इंडियन स्कूल ऑफ डेमोक्रेसी को सफल बनाने के लिए आवश्यक शैक्षणिक विशेषज्ञता और नेटवर्क निर्माण में अपना समय बिताया। प्रखर अपने और अपने आसपास के लोगों के लिए काम को मज़ेदार बना देते हैं।  कॉफी पर बातचीत के लिए प्रखर हमेशा तैयार रहते हैं। विनोबा से प्रेरित होकर, वह पूरे भारत में पद-यात्रा करना चाहते हैं और लोगों के दिलों को जोड़ने की दिशा में अपना जीवन व्यतीत करना चाहते हैं।

hemakshi.png

सह-संस्थापक

हेमाक्षी मेघानी 

हिमाक्षी मेघानी ने हार्वर्ड केनेडी स्कूल से पब्लिक पॉलिसी के क्षेत्र में एक विश्व बैंक स्नातक के रूप में मास्टर्स की उपाधि प्राप्त की है। उन्होंने 2011 में टीच फॉर इंडिया फेलो के रूप में अपनी यात्रा शुरू की, फिर बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (बीसीजी) के साथ काम किया, और शिक्षा और सामाजिक-राजनीतिक परामर्श क्षेत्र के दो स्टार्ट-अप का हिस्सा रही हैं।

हिमाक्षी ने दुनिया भर के विभिन्न नेतृत्व मंचों में भाग लिया और उनकी टीम का हिस्सा भी रही हैं, और अनुकूली (अडॉप्टिव) नेतृत्व में एक प्रशिक्षित कोच हैं। वह राजनीति, नीचे से ऊपर(बॉटम अप) सामाजिक सुधार और लोकतंत्र को देश के प्रत्येक नागरिक के लिए कारगर बनाने के लिए उत्साहित है।

उन्हें देश के सुदूर हिस्सों को घूमने तथा बाहरी और आंतरिक यात्रा करने में आनंद मिलता है। हिमाक्षी का सपना है वे किसी दिन किसान बनें।

anita.png

प्रोग्राम लीड

अनीता मनोहरन

अनीता मनोहरन ने हाल ही में लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन एंड इंटरनेशनल डेवलपमेंट में मास्टर्स पूरा किया है। अनीता 2010 की टीच फ़ॉर इंडिया फ़ेलो रह चुकी हैं और उन्होंने कई वर्षों तक दिल्ली में प्रोग्राम टीम के साथ काम किया है। अनीता का मुख्य अनुभव प्रोग्राम डिजाइन, कोचिंग और प्रशिक्षण में है, लेकिन उन्हें लोगों के विकास और उनसे स्थायी संबंध बनाने में ज्यादा सुकून मिलता है।

अनीता ने लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर विमेन, दिल्ली विश्वविद्यालय से उत्तर औपनिवेशिक साहित्य और जेंडर विषय के साथ अंग्रेजी साहित्य से मास्टर्स किया है।  अनीता एक पर्यावरणविद् हैं और भविष्य में देश भर में पशु पुनर्वास केंद्र खोलना चाहती हैं।

saga-nain.png

आउटरीच एसोसिएट

सागर नैन

सागर देश भर से प्रतिभागियों को खोजने में हमारी मदद करते हैं। 2020 में, वे अशोका यूनिवर्सिटी की यंग इंडिया फ़ेलोशिप से ग्रेजुएट हुए हैं। उन्होंने 2019 में दिल्ली विश्वविद्यालय से अपना बी.कॉम पूरा किया है। 

उन्हें किताबें पढ़ने, जॉगिंग करने और ज़िन्दगी के कई पहलूओं में रह रहे लोगों से जुड़ने में आनंद मिलता है।
 

isd-stroke-green-02.png

रिसर्च मैनेजर 

इशू गुप्ता 

ईशू ने भारतीय प्रबंध संस्थान अहमदाबाद में एक शोधकर्ता के रूप में शहरी शासन, शिक्षा, प्रारंभिक बचपन और शहरी लचीलापन पर एक IIMA और UNICEF साझेदारी के हिस्से के रूप में काम किया है। पहले उन्होंने शिक्षा के अधिकार अधिनियम के '25% जनादेश 'या धारा 12 (1) (सी) प्रावधान के प्रभाव को समझने और उसी के लिए एक राष्ट्रीय संसाधन बैंक बनाने पर परियोजनाओं पर काम किया। उन्होंने 2011 में दयालु जीवन - आशायीन को बढ़ावा देने के लिए नॉट फॉर प्रॉफिट की स्थापना की और अलवर में निर्वाण फाउंडेशन का हिस्सा हैं। उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की डिग्री ली है।

प्रोग्राम मैनेजर 

वाणी वालसन

वाणी ने अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय (APU) से एमए की शिक्षा ली। वह सेंट स्टीफन कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास में स्नातक की डिग्री रखती है। जम्मू और कश्मीर के छात्रों के साथ अपनी यात्रा और सगाई के माध्यम से, वाणी ने देश में शिक्षा प्रणाली के बारे में जवाब मांगे और भारत के लिए अध्यापन में शामिल हो गए, जहाँ उन्होंने कार्यक्रम टीम पर भी काम किया। वह मानती है कि प्रत्येक व्यक्ति का एक बड़ा उद्देश्य होता है और वह अपने उद्देश्य को खोजने के लिए अपनी खोज में कुछ लोगों के लिए सह-यात्री बनने में सक्षम होना चाहता है। उसका सपना एक दिन दिमाग वाले लोगों की तरह आत्मनिर्भर कम्यून का निर्माण करना है।

हमारे मार्गदर्शक

anurag-behar.png

अनुराग बहर

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय,
और एपीपीआई

arun-maira.png

अरुण मायरा

पूर्व योजना आयोग सदस्य,
बीसीजी इंडिया के अध्यक्ष, टीएएस

प्रोफेसर आशुतोष वार्ष्णेय

प्रोफेसर, ब्राउन यूनिवर्सिटी
लेखक और विशेषज्ञ-भारतीय लोकतंत्र

paresh-sukthankar.png

परेश सुकथांकर 

पूर्व डिप्टी एमडी, एचडीएफसी बैंक

preeta-bansal.png

प्रीता बंसल

एमआईटी मीडिया लैब,
सीनियर वकील - ओबामा प्रशासन

tara-krishnaswamy.png

तारा कृष्णस्वामी
सह संस्थापक,

शक्ति - महिलाओं को राजनीतिक शक्ति

ujwal-thakar.png

उज्जवल ठक्कर

एजुकेट गर्ल्स,
पूर्व-सीईओ प्रथम भारत

venkat-krishnan.png

वेंकट कृष्णन

इंडिया वेलफेयर ट्रस्ट, दान उत्सव, गिव इंडिया

isd-stroke-peach-02.png
isd-stroke-peach-01.png

संस्थापकों से सुनें